Illusion or Disillusion

Haven’t we all wished to rewrite the fate of a certain fictional character because we thought they deserved better? Haven’t we all wanted to know what were our favourite characters thinking during the toughest of their times ?  While some of us create an alternate destiny  and let them live happily ever after in our heads, there also a few of us who write a fan fiction as an ode to our favourite characters. But then there are others who feel strongly about them that they can go on to write a full-fledged novel based on those emotions.  Continue reading “Illusion or Disillusion”

पिलपिलाते हुए आम लोग।

ज़िन्दगी है, ज़िन्दगी में मुलाकातें भी होती रहतीं हैं। मुलाकातें होतीं हैं तो बातें भी चल पड़तीं हैं। हम हिन्दुस्तानी राय रखने में ऐसे भी बड़े आगे हैं। राजनीति, क्रिकेट, मज़हब, चलचित्र- आप बस मुद्दा उठाइये और चार पाँच विशेषज्ञ तो आपको राह चलते मिल जाएंगे। पान थूकते, तम्बाकू चुनाते, ताश खेलते विशेषज्ञ से शायद पाठक का भी पाला पड़ा ही होगा। तेंदुलकर को किस बॉल पर क्या मारना चाहिए, ये मेरे कॉलोनी के गार्ड से बेहतर शायद ब्रैडमैन को भी ना मालूम हो। Continue reading “पिलपिलाते हुए आम लोग।”