पिलपिलाते हुए आम लोग।

ज़िन्दगी है, ज़िन्दगी में मुलाकातें भी होती रहतीं हैं। मुलाकातें होतीं हैं तो बातें भी चल पड़तीं हैं। हम हिन्दुस्तानी राय रखने में ऐसे भी बड़े आगे हैं। राजनीति, क्रिकेट, मज़हब, चलचित्र- आप बस मुद्दा उठाइये और चार पाँच विशेषज्ञ तो आपको राह चलते मिल जाएंगे। पान थूकते, तम्बाकू चुनाते, ताश खेलते विशेषज्ञ से शायद पाठक का भी पाला पड़ा ही होगा। तेंदुलकर को किस बॉल पर क्या मारना चाहिए, ये मेरे कॉलोनी के गार्ड से बेहतर शायद ब्रैडमैन को भी ना मालूम हो। Continue reading “पिलपिलाते हुए आम लोग।”

Advertisements

Culture Crops – Banning the termites!

“…but how can we ban porn access?” – cried the person in khadi kurta and a squeaky clean white dhoti.

“Why not?” Another person pounded his heavy fist on the desk and stood up in anger. Dressed in khadi kurta and squeaky clean white dhoti, this man additionally had a Gandhi topi (cap) on his head which was gravitating towards the floor in a strange way as if it had life in it and deep down in its cardiac cavity thought that the head that it housed didn’t deserve the place. Continue reading “Culture Crops – Banning the termites!”