Thu. Jun 27th, 2019

The Seer

Read, Think, Act

strangers

6 min read

I now know that to trust everyone isn’t an easy thing to do and to trust is not everyone’s thing to do. Although I have no explanation as to why I remembered these seemingly insignificant incidents from my life, I know for sure that these little fragments of thoughts defined the kind of person I wanted to be.

Advertisements

Travelling alone in a city with no specific agenda leaves you with ample time to appreciate those beautiful little things that light up the spirit of the city. That fellow lone traveller, a part of whose face is hidden behind his wise- looking beard and reading glasses , the rest of which is buried in the book he reads; the chuckling brother- sister duo who discuss animatedly about what they see across the windows; the carefree young dude whose music reaches you over the rattling rails and gushing wind; an elderly gentleman who held his wife’s hands all along the journey and those assuring smiles they always exchanged. They all did have me smiling all through the day.

1 min read

पर मैं यहाँ उनकी बात नहीं करूँगा। मैं बात करूँगा आम आदमी की – तथाकथित आम आदमी। मेरे मत से तो आम आदमी कोई नहीं होता। आदमी होते हैं, औरतें होतीं हैं। गरीब आदमी, अमीर आदमी। गरीब औरत, अमीर औरत। आम तो उस फल का नाम है जो गरीब आदमी की नसीब में नहीं लिखा होता। अच्छा छोड़िये इन बातों को, अभी के लिए आम आदमी ही कह लीजिये। तो बात कुछ यूँ हुई कि जहाँ कहीं भी गया आम लोगों के साथ ही रहा । आम आदमी जो अच्छे भी हैं, बुरे भी और फिर जो इन दोनों में से कुछ नहीं या फिर दोनों ही। इन सबने किसी ना किसी तरीके से कुछ ऐसा कहा है कि मैंने इनको याद रक्खा है। कुछेक आप भी पढ़ लें। कोई भी बात निर्णयात्मक नहीं है। मेरे ख्याल में ये बातें उन लोगों ने कहीं हैं जो अपने दिल से ईमानदार थे और इन्हें व्यवहार कुशलता की कोई चिंता नहीं थी। मानव सीमाओं से घिरा है, हम आप और सब।