हम इस हमले की कड़ी निंदा करते हैं। (कड़ी निंदा सन्देश )

लांस नायक राघव यादव आतंकवाद के शिकार हो गए। कश्मीर में ड्यूटी पर कोई उन्नीस बीस साल के लौंडे ने गोलियों से छलनी कर दिया। बन्दूक उनके पास भी थी, पर उसको चलाने पर पाबंदी थी सरकार की तरफ से। इस से पहले कि ये समझ पाते कि सरकार जाये भाँड़ में, बन्दूक निकालो और गोली मारो, लड़के ने गोली चला दी थी। शहीद हो गए ।
सलामी के बाद शव को परिवार वालों को सौंप दिया गया। साथ में एक चिट्ठी भी थी जिसमें कुछ ऐसा लिखा था –

Continue reading “हम इस हमले की कड़ी निंदा करते हैं। (कड़ी निंदा सन्देश )”

The Hindu! Take a bow!

Positivity! Where art thou? Hope! Where art thou?

The country is debating Mr. Aamir Khan’s statements at ‘Ramnath Goenka Awards for Excellence in Journalism’. Irrespective of our political leanings, I am sure most of us would agree with at least one part of his statement where he says something to the effect of – “We are afraid to open the newspapers every day”  Indeed, we are!   Continue reading “The Hindu! Take a bow!”