Tue. Jun 25th, 2019

The Seer

Read, Think, Act

Abhishek Jha

4 min read

Internet is perhaps the most democratic country you can get. I concede that it has…

Advertisements
1 min read

करीब १२-१३ बरस का था। नए पड़ोसी आये थे उस दिन।  माँ ने मुझे उनकी मदद करने के लिए भेजा।  एक ट्रक भर कर सामान था। काफी चीज़ें थीं। घर में उनके बस सिन्हा अंकल खुद, उनकी पत्नी और उनकी बेटी थी। आंटी और बेटी तो अंदर बैठ गए, सो मैंने और अंकल ने मिलकर सारा सामान उतारा और अंदर रखा।  थालियाँ, चम्मच, मिक्सर ग्राइंडर – मुझसे तो यही उठ रहे थे।  करीब तीन से चार घंटों में ये काम पूरा हुआ। अंकल ने अंदर आकर बैठने को कहा। यही सोचकर कि कुछ खाने पीने को मिलेगा, मैं अंदर बैठ गया।

4 min read

Headache is perhaps the most dangerous weapon of nature against man. No matter how many nuclear weapons you have made, you still have a headache saving them from hackers. No matter how much wealth you have made selling beer in Aidin, you still have a headache of running around in a court of London. In a way, it is a great leveller. It’s almost like nature knew that she would be screwed up by us human, so she put one of her own in our head – an ache.